यह क्या हो रहा है सीएम साहब

40    गाडियों के काफिले में लालबत्ती लगाकर चलते हैं आपके मंत्री
-आम आदमी पार्टी ने कहा मंत्री से मांगा जाएगा जवाब
-लाल बत्ती का विरोध करती है आप
नई दिल्ली (ब्यूरो)दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मंत्री एक के बाद एक विवादों के घेरे में फंसते जा रहे हैं। जितेन्द्र सिंह तोमर और असीम अहमद खान के बाद ताजा मामला परिवहन मंत्री गोपाल राय का सामने आया हैं। अब तक वीवीआईपी कल्चर का विरोध करती आ रही आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार के मंत्री खुद अपने ही नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। चौकाने वाली बात है कि केजरीवाल सरकार के मंत्री गोपाल राय 40 गाडियों के काफिले में लालबत्ती लगाकर चलते हैं, लेकिन उन्हें इस बात का आभास तक नहीं होता है।
दरअसल, मामला पांच अप्रैल को गोपाल राय के पैतृक गां

व  थाना मधुबन के गोबरीडीह जाते समय का है। जहां वह न केवल लाल बत्ती हूटर (सायरन) और उत्तर प्रदेश सरकार के व्हीकल फ्लीट (निजी गाड़ियों) के काफ़िले का इस्तेमाल करते देखे गए थे, बल्कि उनके काफिले में करीब 40 गाड़िया भी थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह पूरा काफिला सरकारी गाडियों का था। और ज्यादातर गाडियों पर लालबत्ती भी लगी हुई थी। लेकिन गोपाल राय ने अपनी सफाई में कहा कि उन्हें इस बात का पता नहीं था कि उनकी गाड़ी में लाल बत्ती लगी हुई है।
गोपाल राय का कहना है कि भीड़ की वजह से उन्हें इस गाड़ी में बैठाया गया था, लेकिन पता चलने के बाद उन्होंने इस बात का विरोध भी किया था। उन्होंने कहा मैं दिल्ली में अपना काम करते हुए नैनों कार से चलता हूं, मीडिया को उसे भी देखना चाहिए। वहीं इस मामले के बाद न केवल पूरी दिल्ली सरकार सवालों के घेरे में आ गई है। बल्कि पार्टी गोपाल राय से जवाब मांगने की तैयारी कर रही है।
पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने कहा कि हम गोपाल राय से बात करेंगे और उनसे पूछेंगे कि ऐसा उन्होंने ऐसा क्यों किया। आगे उन्होंने कहा कि यूपी सरकार ने ये गाड़ी उपलब्ध कराई थी, उनसे भी पूछना चाहिए। अगर यूपी सरकार ने प्रोटोकोल के तहत उपलब्ध कराई है, तो भी इसका इस्तेमाल करना गलत है।

गौरतलब है कि वर्ष 2013 के चुनाव में एक ओर जहां केजरीवाल और उनके लोग गाड़ी और बगला लेने से मना करते थे। लेकिन दिल्ली में पूर्ण बहुमत की सरकार बनने के बाद केजरीवाल के मंत्री न केवल बगलों में रह रहे हैं बल्कि सरकारी गाडियों का जमकर उपयोग कर रहे हैं। 

Comments