Skip to main content

नवोदय टाइम्स





सिर्फ कॉलोनियों में ही दौड़ पाएगा ई रिक्शा

- मेट्रो स्टेशन से 25 मीटर पहले उतरानी होगी सवारी
- 12 जोन में अलग- अलग नम्बर की होगी सिरिज
- घर पर ही करनी होगी चार्जिंग, निगम ने तैयार की ई रिक्शा पर पॉलिसी
नई दिल्ली 11 अगस्त (निहाल सिंह) गाइडलाइन न होने की वजह सें ई रिक्शा पर लगी रोक को हटवाने के लिए निगम ने कार्रवाई करनी शुरू कर दी है। निगम ने ई रिक्शा पर पॉलिसी तैयार कर ली है। पॉलिसी के तहत अब ई रिक्शा सिर्फ कॉलोनियों में ही दौड़ सकेंगे। और मैट्रो स्टेशन के पास जाम न लगे इसलिए सवारी को स्टेशन से 25 मीटर दूर ही उतारना और चढ़ाना होगा।
फिलहाल इस पॉलिसी को दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी)तैयार कर रहा है, लेकिन तैयार होने के बाद तीनों निगमों में यही पॉलिसी मान्य होगी। एसडीएमसी  के नेता सदन सुभाष आर्य ने बताया कि निगम जल्द से जल्द ई रिक्शा वालों को राहत देने के कार्य में जुटी हुई है। इसी कार्य के तहत निगम अपनी पॉलिसी बना रही है। उन्होंने कहा तीनों निगमों के नेताओं और निगम आयुक्तों ने पॉलिसी के लिए सुझाए गए सुझावों पर अपनी सहमति दे दी है। आर्य ने कहा कि चूंकि ई रिक्शा का उपयोग वहां होता है जहां पर परिवहन विभाग के साधन उपलब्ध नहीं हैं, ऐसे में ई रिक्शा को कॉलोनियों में ही दौडऩे की ही अनुमति होगी।
 विशेषज्ञों के सुझाव के अनुसार 60 फीट से चौड़ी सड़को पर ई रिक्शा के चलने से सड़क हादसों की वजह बनता है इसलिए उसके इन सड़को पर सवारी ढोने की अनुमति नहीं होगी। लेकिन यह इन सड़को से दूसरी कॉलोनी में जाने (क्रास) करने के लिए स्वतंत्र होंगे। इसके साथ ही 4 सवारी और पचास किलों का वजन के साथ घर पर ही चार्जिंग करने का नियम भी लागू होगा।
सुभाष आर्य ने बताया कि यह रिक्शा ट्रैफिक नियमों के अनुसार ही चलेंगे। जिसमें नियमों के उल्लघंन करने पर जुर्माना भी किया जाएगा।  अब एसडीएमसी पॉलिसी बनाकर निगम इसे सदन की बैठक में प्रस्तुत करने की तैयारी कर रही हैं। बता दें कि गाइडलाइन न होने की वजह से दिल्ली उ"ा न्यायालय ई रिक्शा पर पांबदी लगा रखी है।

12 कलर के होंगे ई रिक्शा
एमसीडी ने ई रिक्शों के पंजीकरण की अलग व्यवस्था करने पॉलिसी बनाई है। जिसके तहत निगम का हर जोन इसके पंजीयन के बाध्य होगा। जिसमें उसे पंजीकरण  नम्बर के साथ चालक का मोबाइल नम्बर,पते के साथ हैल्पलाइन नम्बर भी लिखना होगा। वही बताया जा रहा है कि दिल्ली में 12 रंग के ई रिक्शा चलाने की योजना है।
यह होंगे नियम
- ट्रैफिक नियमों के दायरे में चलना होगा
- 60 फीट से चौड़ी सड़को पर ही दौडऩा होगा
- 4 सवारी और पचास किलों वजन से 'यादा करने पर होगा जुर्माना
- हर रिक्शा के पीछे लिखना होगा चालक का नम्बर और पता
- बीमा भी जरूरी होगा
- ड्राइविंग लाईसेंस ॉ
-घर पर ही करनी होगी चार्जिंग

Comments

Popular posts from this blog

एक पत्रकार की शादी का कार्ड

जैसा कि आपकों पता है कि गत वर्ष 26 नवम्बर 2015 को मेरी शादी हुई। वैसे तो हर प्रोग्राम में इंशान के खट्टे मीठे पल होते हैं। लेकिन बात जब शादी की हो तो केवल मीठे पल ही याद रखने चाहिए। क्योंकि दोस्तों का कहना है कि शादी के बाद खट्टे पल ही नजर आते हैं। हालांकि अभी तक तो जिंदगी बहुत सुंदर चल रही हैं। मैं और मेरी धर्मपत्नी नीलम एक दूजे से बहुत खुश है। यह तो रही शादी के बाद की बात अब आपकों शादी से पहले की ओर ले चलता हूं। शादी तय हो गई थी। परिवार की रजामंदी और मेरी पंसद से नीलम के साथ मेरा विवाह हुआ। वर्ष 2015 के 5 मार्च को हम दोनों ने एक दूसरे को पूर्वी दिल्ली के नीलम माता मंदिर में देखा था। और देखने के बाद मेरे परिवार और मुझे भी नीलम पंसद आ गई थी। इसके बाद शादी की तैयारियां शुरू हो गई थी। सबसे पहले की रस्म थी। रोके की रस्म । यह रस्म भी खूब धूमधाम से मनाई गई। मैं और मेरा परिवार नाते रिश्तेदारों के साथ 20 अप्रैल को नीलम के निवास पर गोद भराई अर्थात रोके की रस्म के लिए गए। यहां हम दोनों ने समाज के सामने एक दूजें को अगुठियां पहना कर अपना लिया। इसके बाद बातों का सिलसिला चला और शादी की तैयारिया श…

दैैनिक जागरण

RTI FORMAT- आरटीआई प्रथम अपील के आवेदन का प्रारुप

मित्रों आप जब किसी विभाग में आरटीआई फाईल करे और आपको 30 दिनों के भीतर जवाब न मिलें तो आप इस तरह के प्रारुप का इस्तेमाल करके प्रथम अपील फाईल कर सकते है।
-------------------------------------------------------------------------
-- प्रारुप को देखने के बाद सुझाव आमत्रित है..
=================================================

सेवा में,                                                               दिनांक......................... प्रथम अपीलीय अधिकारी, .......विभाग का नाम और पता........................... .................................... विषय- सूचना के अधिकार अधिनियम की धारा 19 के तहत प्रथम अपीलीय अधिकारी के समझ अपील। मान्यवर, मैने आपके कार्यलय में दिनांक ......................... को कुछ सूचनाओं के लिए आवेदन दिया था । मान्यवर आवेदन के संबध में सूचना अधिकारी महोदय द्वारा जो सूचनाए उपलब्ध कराई गयी है वह अधूरी व अस्पष्ट है। साथ ही इन सूचनाओं से मै संतुष्ठ नही हूं। कृपया करके मुझे स्पष्ट व पूर्ण सूचनाएं उपलब्ध कराने का कष्ट करें। मूल आवेदन की छाया प्रति संलग्न है।                                      …