Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2012

पांच साल हो गए

प्रिये
दिल को प्यार हुए पांच साल हो गए
दिल को बिमार हुए पांच  साल हो गए
आंखे चार हुए पांच साल हो गए  ।

पांच साल पहले रुसवाई थी जिंदगी मै
तुमने  नई रोशनी जगाई थी जिंदगी मै

दिल को प्यार हुए पांच साल हो गए
दिल को बिमार हुए पांच साल हो गए
आंखे चार हुए पांच साल हो गए  ।

पांच साल पहले थामा था तुम्हारा हाथ
वादा निभाऊगा जीवन भर साथ

दिल को प्यार हुए पांच साल हो गए
दिल को बिमार हुए पांच  साल हो गए
आंखे चार हुए पांच साल हो गए  ।



पिताजी ने दिलाया मुझे एक और जीवन साथी

आज में फिर एक बार खुश हू,, हर बार की तरह मेरे पिताजी ने अपनी खुशियों और चिंताओ का त्याग करके मुझे लेपटाप दिला दिया... सच बताऊ इस मेरे पिताजी के इतने बड़े शौकीन है कि हमें कोई भी शौक की आदत पालने की जरुरत नही है सारे शौक पिताजीके शौक के बहाने पूरे हो जाते है।

हमारे घर में हमेशा यह डर लगा रहता है कि पिताजी आज कुछ नया खरीद न लाये ... क्योंकि मै एक मध्यमवर्गी परिवार से संबध रखता हू महीने के आखिरी दो हफ्ते आते आते पैसे की कमी महसूस होने लगती है पर पिताजी सारी चीजों को एक तरफ करके हमारी शौक और पढाई को ज्यादा तवज्जों देते है।gud nite