Skip to main content

पुलिस की लापरवाही

हर इतवार की तरह में अपने दोस्त के साथ बहार गुमने गया यानि अपने ही इलाके में घूम रहा था तो, रस्ते में हम बाते करते हुए जा रहे थे
और उधर से तरुण क पापा आ गए उनको देखकर हमने नमस्ते किया और अंकल जी सवाल किया की कहा जा रहे हो तो हमे बोला बस ऐसे ही घूम रहे है , ठीक है अंकल जी कह कर चल दिए
घूमते-घूमते हम ब्लॉग पर और भ्रस्टाचार पर बाते कर रहे थे तबी हमारी नजर एक भीड़ पर पड़ी मेने अपने दोस्तों से उस भीड़ की वजह जानने की अनुमति ली और उस भीड़ में जाकर खड़ा हो गया वहा मेने देखा की एक महिला के साथ बदसलूकी की वजह से ये भीड़ लगी हुई है
२ -४ लोगो को सुनने से पता चला की महिला अपनी ४ पहिये की कार को लेकर मार्केट आई हुई थी और उसने अपनी कार नो पार्किंग में लगाने की कोशिस कर रही थी तभी वहा से एक मोटर साइकिल सवार ने उसका विरोध किया तो महिला ने शेद्खानी के आरोप में पुलिस बुला ले
क्योकि पुलिस बोथ पास में ही था तो पुलिस इस बार जल्दी पहुच गई
और अब यहाँ पुलिस की करतूत तो देखिये पुलिस कर्मी एक दूसरी क्लास के बच्चे की कापी के एक तुकडे पर रिपोर्ट लिख रहे थे जैसे सरकार ने
उनको सिर्फ ये ही मुहैया कराइ हो मेरा तो यह देखकर खों खोल रहा था लेकिन मेरे दोस्तों ने वहा से मुझे पकड़ कर आगे ले आये उने लग रहा था की में कोई गड़बड़ करने वाला हु मतलब में उस पुलिस कर्मी का एक टुकड़े की रिपोर्ट पर विरोध करने वाला हु इसलिए वो मुझे आगे ले आये
अब मुझे उस पुलिस पर गुसा आ रही थी की ये पुलिस वाले साले अपनी ओकात तो दिखा देते है घुस लेने के लिए रिपोर्ट पक्की नहीं लिखी गई
और जबकि उस मोटर साइकिल सवार की कोई गलती नहीं थी तो उसे ठाणे ले जा रही थी क्योकि शिकायत करता महिला थी इसलिए इनकी तो .....
..........................

Comments

  1. tje jakr police wale se puchna chahiye tha ki wo aisa kyun kr rha hai

    ReplyDelete
  2. nihal ji blog per bhasha ka istmaal karte hue thoda sayyam rakho..yeh ek aisa platform hai jo worldwide hai so patrkarita ki garima to banye rakho.....bura na manna but sachchai hai .......

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मुझे नौकरी चाहिए ... क्या आप मेरी मदद करेंगे

प्रिय मान्यवर, बंधुवर
में आपको सूचित कर रहा रहा हु कि  में निहाल सिंह मेने भीम राव अम्बेडकर कॉलेज से पत्रकारिता कि पढाई  को पूरा कर लिया हैं.. और आप अवगत होंगे कि हर विद्याथी को कॉलेज से निकलने क बाद एक नौकरी कि तलाश होती हैं.. इस तरह मुझे भी एक नौकरी कि तलाश हैं... आप पिछले लगभग दो वर्ष से मेरे व्यवहार से भी से भी अच्छी  तरह परिचित हो गये होंगे. और नौकरी किसी भी संस्थान में मिले चाहे और प्रिंट और चाहे और किसी में भी में तैयार हु. बस में किसी भी तरह  से शुरुवात  करना चाहता हु.  मुझे आशा हैं कि आप किसी न किसी रूप में मेरी मदद करेंगे ...
 जब आपको लगे कि आप मेरी मदद कर सकते हैं तो कृपया मुझे बस एक फोन कॉल कर दे
 में इस मेल के साथ अपना रिज्यूमे भी सेंड कर रहा हु  आप देख ले..
धन्यवाद 
निहाल सिंह
E- MAIL- nspalsingh@gmail.com



CURRICULUM VITAE
NIHAL SINGH   Mobile: 0 E-Mail: nspalsingh@gmail.com.
Blog 
: aatejate.blogspot.com.
Career Objectives:-
Looking for a position in a result-oriented organization where acquired skills and education will be utilized towards continuous growth and advancement and…

एक पत्रकार की शादी का कार्ड

जैसा कि आपकों पता है कि गत वर्ष 26 नवम्बर 2015 को मेरी शादी हुई। वैसे तो हर प्रोग्राम में इंशान के खट्टे मीठे पल होते हैं। लेकिन बात जब शादी की हो तो केवल मीठे पल ही याद रखने चाहिए। क्योंकि दोस्तों का कहना है कि शादी के बाद खट्टे पल ही नजर आते हैं। हालांकि अभी तक तो जिंदगी बहुत सुंदर चल रही हैं। मैं और मेरी धर्मपत्नी नीलम एक दूजे से बहुत खुश है। यह तो रही शादी के बाद की बात अब आपकों शादी से पहले की ओर ले चलता हूं। शादी तय हो गई थी। परिवार की रजामंदी और मेरी पंसद से नीलम के साथ मेरा विवाह हुआ। वर्ष 2015 के 5 मार्च को हम दोनों ने एक दूसरे को पूर्वी दिल्ली के नीलम माता मंदिर में देखा था। और देखने के बाद मेरे परिवार और मुझे भी नीलम पंसद आ गई थी। इसके बाद शादी की तैयारियां शुरू हो गई थी। सबसे पहले की रस्म थी। रोके की रस्म । यह रस्म भी खूब धूमधाम से मनाई गई। मैं और मेरा परिवार नाते रिश्तेदारों के साथ 20 अप्रैल को नीलम के निवास पर गोद भराई अर्थात रोके की रस्म के लिए गए। यहां हम दोनों ने समाज के सामने एक दूजें को अगुठियां पहना कर अपना लिया। इसके बाद बातों का सिलसिला चला और शादी की तैयारिया श…

दैैनिक जागरण