Skip to main content
आते आते पत्रकार
सबी लोगो की तरह मैंने भी २००९ में १२ साल स्कूल जाकर आखिर बारहवी पास कर ही ली
जब पड़ना था तो हम मस्ती करा करते थे स्कूल में डेस्क का बात बनाकर क्रिकेट खिलते और
पुरे दिन मस्ती करते हा बस स्कूल में एक क्लास जरुर लेना पसंद था क्योकि मुझे भूगोल
पड़ना अच्छा लगता था और भूगोल के सर मुझे बहुत प्यार करते थे मेरे दोस्त भी मेरा खेलेने में बहुत
साथ देते थे वो भी मेरे साथ क्रिकेट खिलते और हम घुमने चले जाते !
लेकिन समय बीत चूका था और धीरे धीरे एक्साम का त्यौहार भी आ गया था और मेने अबी तक कुछ नहीं
पड़ा था और मुझे अब ये चिंता सताने लगी की अब में पास कैसे होगा क्योकि मेने पुरे साल कुछ भी नहीं पड़ा था
लेकिन अब मेने एक फैसला लिया की अब हम सब मिलकर पड़ेगे और बढ़िया नंबर से पास होंगे
फेबरी में मेरी सिस्टर सादी थी फिर मेने सोचा जो हुआ जो हुआ लेकिन अब पड़ना था में और मेरे दोस्त पेपर सुरु होने से पहेले हमने प[अदना सुरु कर दिया और हम लोग एक साथ पड़े और हमारा एक दोस्त एक महिना पड़कर स्कूल टॉप कर दिया और हम भी जेयदा नहीं तो सही नंबर से पास हो ही गए
रिजल्ट आने के बाद हम कॉलेज में दाखिले के लिए दोड़ने लगे मेरी परेशानी को देखते हुए मेरे पापा ने मुझे बिजली वाली स्कोटी दिल्ला दी और हम उसी से दकिले की दोड में लग गए हमने कई जगह फॉर्म भरे और कई
जगह पेपर दिए और और कई जगह पास हुए और कई जगह फ़ैल इसी समय हमने पत्रकार बनने के लिए के लिए
D.U में फॉर्म भी भर दिया और पेपर देकर पास भी हो गए और हमारा नाम भीम राव आंबेडकर कॉलेज में आ गया और हमने धकिला ले लिया दाखिला सिर्फ हम दो जानो को ही मिल पाया था
और यही से सुरु हो गए वो मौज मस्ती के दिन .............फिल्म अभी बाकि है मेरे दोस्त

Comments

  1. acha likha nihal tumne apna anubhav online kiya ye tumme kafi achchi baat hai but ab padai me lag jao varna aane wale yeras me percentage kichne mushkil ho jata hai......... or ha ek chiz hamesha dhyan rkhna patrakarita padne ki nahi samjhne wali chiz hai.....

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. yaar tumne hm sbki vytha bade achhe se prstut ki hai tm dhanywaad ke patr ho.

    ReplyDelete
  4. yaar tune puraane din yaad dila diye kasam se

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मुझे नौकरी चाहिए ... क्या आप मेरी मदद करेंगे

प्रिय मान्यवर, बंधुवर
में आपको सूचित कर रहा रहा हु कि  में निहाल सिंह मेने भीम राव अम्बेडकर कॉलेज से पत्रकारिता कि पढाई  को पूरा कर लिया हैं.. और आप अवगत होंगे कि हर विद्याथी को कॉलेज से निकलने क बाद एक नौकरी कि तलाश होती हैं.. इस तरह मुझे भी एक नौकरी कि तलाश हैं... आप पिछले लगभग दो वर्ष से मेरे व्यवहार से भी से भी अच्छी  तरह परिचित हो गये होंगे. और नौकरी किसी भी संस्थान में मिले चाहे और प्रिंट और चाहे और किसी में भी में तैयार हु. बस में किसी भी तरह  से शुरुवात  करना चाहता हु.  मुझे आशा हैं कि आप किसी न किसी रूप में मेरी मदद करेंगे ...
 जब आपको लगे कि आप मेरी मदद कर सकते हैं तो कृपया मुझे बस एक फोन कॉल कर दे
 में इस मेल के साथ अपना रिज्यूमे भी सेंड कर रहा हु  आप देख ले..
धन्यवाद 
निहाल सिंह
E- MAIL- nspalsingh@gmail.com



CURRICULUM VITAE
NIHAL SINGH   Mobile: 0 E-Mail: nspalsingh@gmail.com.
Blog 
: aatejate.blogspot.com.
Career Objectives:-
Looking for a position in a result-oriented organization where acquired skills and education will be utilized towards continuous growth and advancement and…

एक पत्रकार की शादी का कार्ड

जैसा कि आपकों पता है कि गत वर्ष 26 नवम्बर 2015 को मेरी शादी हुई। वैसे तो हर प्रोग्राम में इंशान के खट्टे मीठे पल होते हैं। लेकिन बात जब शादी की हो तो केवल मीठे पल ही याद रखने चाहिए। क्योंकि दोस्तों का कहना है कि शादी के बाद खट्टे पल ही नजर आते हैं। हालांकि अभी तक तो जिंदगी बहुत सुंदर चल रही हैं। मैं और मेरी धर्मपत्नी नीलम एक दूजे से बहुत खुश है। यह तो रही शादी के बाद की बात अब आपकों शादी से पहले की ओर ले चलता हूं। शादी तय हो गई थी। परिवार की रजामंदी और मेरी पंसद से नीलम के साथ मेरा विवाह हुआ। वर्ष 2015 के 5 मार्च को हम दोनों ने एक दूसरे को पूर्वी दिल्ली के नीलम माता मंदिर में देखा था। और देखने के बाद मेरे परिवार और मुझे भी नीलम पंसद आ गई थी। इसके बाद शादी की तैयारियां शुरू हो गई थी। सबसे पहले की रस्म थी। रोके की रस्म । यह रस्म भी खूब धूमधाम से मनाई गई। मैं और मेरा परिवार नाते रिश्तेदारों के साथ 20 अप्रैल को नीलम के निवास पर गोद भराई अर्थात रोके की रस्म के लिए गए। यहां हम दोनों ने समाज के सामने एक दूजें को अगुठियां पहना कर अपना लिया। इसके बाद बातों का सिलसिला चला और शादी की तैयारिया श…

दैैनिक जागरण