Skip to main content

गणतंत्र दिवस तो याद रहा पर उन गरीबो को भूल गए है जिसके नाम पर गणतंत्र दिवस मना रहे है

गणतंत्र दिवस तो याद रहा पर उन गरीबो को भूलगए है जिसके नाम पर गणतंत्र दिवस मन रहे है
२६ जनवरी को हम बड़ी शान से ६० वे गणतंत्र दिवस को मनायेगे और इसकी तैयारी पूरी हो चुकी है | इस दिन को हम इसलिए बड़े उत्साह से इसलिए मानते है क्योकि २६ जनवरी को हमारे सविधान को लागू किया गया था| सविधान का अर्थ होता जिससे किसी देश का शासन चलाया जाता है | एक तरह से ये दिवस हम लोगो आज़ादी की याद दिलाता है , क्योकि

आज़ादी के लगभग 5 महीनो के बाद ही सविधान को लागू किया गया था, इस दिन वो सविधान लागू किया गया था जिससे देश को सही विकाश और सभी को न्याय आदि मिल सके |
हम हर वर्ष बड़ी शान से गणतंत्र दिवस मानते है लेकिन इस गणतंत्र दिवस को मनाने वाली भारत की सरकार शायद अपने देश गण को भूल चुकी है जो इस देश मे रहते है वो गण जो गरीब है महगाई उससे दिन प्रतिदिन कैंसर की तरह पीड़ित कर रही है वो गरीब जो देश की सरकार को अपना वोट देता है क्योकि उसे लगता देश की सरकार उसको समस्याओं से निजात दिलाएगी

हम गणतंत्र दिवस तो मन रहे है पर आज भी हमारे देश का गण गरीबी से और महगाई जैसी न जाने कितनी समस्याओ से लड़ रहा है और मर भी रहा है गणतंत्र दिवस पर हमे तरह- तरह की झाकिया देखते है लेकिन हमारा देश का गरीब गण वह पर कभी नजर नहीं आता |
उस गरीब को तो ये गणतंत्र दिवस देखने को भी नसीब नहीं होता क्योकि एक रिपोर्ट के अनुसार जिस देश की जनता लगभग १८ से कम आमदनी पर गुजरा कर रही है तो भला कैसे ये भारत का गण कैसे इस गणतंत्र दिवस की परेड की १० या १५ रुपे की टिकेट लेकर कैसे देख सकता है और जहा तक बात है टीवी की भारत के कई ऐसे राज्य है जहा पर अभी तक बिजली का रिश्ता दूर का ही नजर आता है फिर उस गण को क्या फ़ायदा जो इस देश मे रहता है उसका इस गणतंत्र दिवस से क्या लेनदेन है वो तो आज़ादी से पहले भी ऐसा था जो आज है बस परिवर्तन हुआ है तो अंग्रेजो की जगह
घुसखोरो ने ले ली है और नेता भी कम नहीं है अंग्रेज तो केवल सरेआम लोगो को कस्ट देते थे लेकिन हमारे देश के नेता
अंदर ही अंदर गरीबो का खून चूस रहे है और गरीब मर रहा है | गरीब तो आज भी आजाद नहीं हुआ है

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक पत्रकार की शादी का कार्ड

जैसा कि आपकों पता है कि गत वर्ष 26 नवम्बर 2015 को मेरी शादी हुई। वैसे तो हर प्रोग्राम में इंशान के खट्टे मीठे पल होते हैं। लेकिन बात जब शादी की हो तो केवल मीठे पल ही याद रखने चाहिए। क्योंकि दोस्तों का कहना है कि शादी के बाद खट्टे पल ही नजर आते हैं। हालांकि अभी तक तो जिंदगी बहुत सुंदर चल रही हैं। मैं और मेरी धर्मपत्नी नीलम एक दूजे से बहुत खुश है। यह तो रही शादी के बाद की बात अब आपकों शादी से पहले की ओर ले चलता हूं। शादी तय हो गई थी। परिवार की रजामंदी और मेरी पंसद से नीलम के साथ मेरा विवाह हुआ। वर्ष 2015 के 5 मार्च को हम दोनों ने एक दूसरे को पूर्वी दिल्ली के नीलम माता मंदिर में देखा था। और देखने के बाद मेरे परिवार और मुझे भी नीलम पंसद आ गई थी। इसके बाद शादी की तैयारियां शुरू हो गई थी। सबसे पहले की रस्म थी। रोके की रस्म । यह रस्म भी खूब धूमधाम से मनाई गई। मैं और मेरा परिवार नाते रिश्तेदारों के साथ 20 अप्रैल को नीलम के निवास पर गोद भराई अर्थात रोके की रस्म के लिए गए। यहां हम दोनों ने समाज के सामने एक दूजें को अगुठियां पहना कर अपना लिया। इसके बाद बातों का सिलसिला चला और शादी की तैयारिया श…

दैैनिक जागरण

RTI FORMAT- आरटीआई प्रथम अपील के आवेदन का प्रारुप

मित्रों आप जब किसी विभाग में आरटीआई फाईल करे और आपको 30 दिनों के भीतर जवाब न मिलें तो आप इस तरह के प्रारुप का इस्तेमाल करके प्रथम अपील फाईल कर सकते है।
-------------------------------------------------------------------------
-- प्रारुप को देखने के बाद सुझाव आमत्रित है..
=================================================

सेवा में,                                                               दिनांक......................... प्रथम अपीलीय अधिकारी, .......विभाग का नाम और पता........................... .................................... विषय- सूचना के अधिकार अधिनियम की धारा 19 के तहत प्रथम अपीलीय अधिकारी के समझ अपील। मान्यवर, मैने आपके कार्यलय में दिनांक ......................... को कुछ सूचनाओं के लिए आवेदन दिया था । मान्यवर आवेदन के संबध में सूचना अधिकारी महोदय द्वारा जो सूचनाए उपलब्ध कराई गयी है वह अधूरी व अस्पष्ट है। साथ ही इन सूचनाओं से मै संतुष्ठ नही हूं। कृपया करके मुझे स्पष्ट व पूर्ण सूचनाएं उपलब्ध कराने का कष्ट करें। मूल आवेदन की छाया प्रति संलग्न है।                                      …